Home गुजरात स्कूलों में प्रवेश के लिए अभिभावक निजी स्कूलों से निराश होकर सरकारी...

स्कूलों में प्रवेश के लिए अभिभावक निजी स्कूलों से निराश होकर सरकारी स्कूलों का रुख कर रहे हैं

23
0
smc

सूरत, सूरत नगर निगम द्वारा संचालित नगर प्राथमिक शिक्षा समिति द्वारा 358 स्कूल और 23 माध्यमिक विद्यालय प्रबंधित किए जाते है. इस विद्यालय द्वारा गुणवत्तापूर्ण पढ़ाई एवं आधुनिक बुनियादी सुविधाओं का निर्माण किया जा रहा है. शिक्षा के स्तर में सुधार के साथ-साथ नगर पालिका ने स्मार्ट स्कूलों का निर्माण भी शुरू कर दिया है, इसलिए हर साल की तरह इस साल भी नगर पालिका द्वारा संचालित स्कूल में प्रवेश लेने की भीड खड़ी है. गरीब और मध्यम वर्ग के अभिभावक अपने बच्चों को नगर प्राथमिक शिक्षा समिति के स्कूलों में भेजने पर जोर दे रहे है.

सूरत नगर पालिका प्राथमिक शिक्षा समिति के 7 स्कूल हैं, जिनमें प्रवेश हाउसफुल हो गए हैं और वर्तमान में 2689 छात्रों की प्रतीक्षा सूची बनाई गई है. जिसमें बालवाटिका में 652, कक्षा-1 में 776, कक्षा-2 में 42, कक्षा-3 में 244, कक्षा-4 में 364, कक्षा-5 में 182, कक्षा-6 में 108, कक्षा-7 में 105 एवं कक्षा-8 में 22 विद्यार्थी प्रवेश की प्रतीक्षा में शामिल है. प्रवेश प्रक्रिया के दौरान पिछले पांच वर्षों से अभिभावकों में नगर निगम स्कूल में प्रवेश लेने की होड़ मची है. सरकारी स्कूल अब माता-पिता के लिए अपने बच्चों को पढ़ाने का सबसे अच्छा विकल्प हैं क्योंकि निजी स्कूलों की फीस में भारी वृद्धि की गई है.

नगर पालिका संचालित स्मार्ट स्कूल में करीब चार हजार विद्यार्थी प्रवेश का इंतजार कर रहे है. यहां भी छात्रों की संख्या हाउसफुल हो जाने से कक्षा-9 में 2977 और कक्षा-11 में 1011 छात्र प्रतीक्षा सूची में है. सूरत नगर निगम उस क्षेत्र में प्रतीक्षा को ध्यान में रखते हुए उपलब्ध कक्षाओं की क्षमता के अनुसार अधिकतम छात्रों को प्रवेश देने की प्रक्रिया आयोजित करेगा. बोर्ड के नतीजों में सूरत निगम द्वारा संचालित सुमन स्कूल के नतीजे निजी स्कूलों की तरह आ रहे है. नगर निगम स्कूलों का 10वीं और 12वीं कक्षा का रिजल्ट करीब 95 फीसदी रहा है. नगर निगम स्कूल के छात्र टॉप टेन में आ रहे है. नगर निगम स्कूलों में शिक्षा के स्तर में सुधार हो रहा है और इस वजह से नगर निगम स्कूलों में कक्षा-9 में प्रवेश के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here