Home गुजरात गृह राज्य मंत्री के कंट्रोल रूम दौरे के बाद सिग्नल टाइमिंग बदलने...

गृह राज्य मंत्री के कंट्रोल रूम दौरे के बाद सिग्नल टाइमिंग बदलने का फैसला

0
26
police

सूरत, सूरत शहर के अंदर पिछले कुछ दिनों से ट्रैफिक सिग्नल लगाए गए हैं, जिससे लोगों को काफी असुविधा हो रही है. शहर भर के ट्रैफिक सिग्नलों पर जाम की स्थिति बनी हुई है. जो सड़क 15 से 20 मिनट में कटती थी, अब 30 मिनट से ज्यादा समय लग रहा है, ऐसे में ट्रैफिक विभाग और निगम टीम की कार्यप्रणाली पर कई सवाल उठ रहे है. गृह राज्य मंत्री ने सूरत के कंट्रोल रूम का दौरा किया. और उन्होंने कहा कि सर्वे के बाद सिग्नल का समय बदल दिया जायेगा. साथ ही गृह मंत्री ने कहा कि 100 से ज्यादा बार नियम का उल्लंघन करने वालों का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा.

कंट्रोल रूम का दौरा करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए गृह राज्य मंत्री हर्ष सांघवी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से सूरत वासी सिग्नल के कारण परेशान हो रहे है. इसमें बहुत अधिक समय लग रहा है, ईंधन भी बर्बाद हो रहा है, सूरत वासी को होने वाली असुविधा हम स्वीकारते है. क्योंकि अभी जो सिग्नल शुरू हुए हैं उनमें कुछ बदलाव की जरूरत नजर आ रही है. आज हम कंट्रोल रूम में जाकर पुलिस विभाग और निगम अधिकारियों के साथ कुछ अहम फैसले ले रहे है.

वराछा जैसे क्षेत्रों से ट्रैफिक सिग्नल को लेकर कई शिकायतें मिली. वेसु क्षेत्र टेक्सटाइल्स और अन्य क्षेत्रों में भी ट्रैफिक सिग्नल के कारण वाहन चालकों को असुविधा हो रही थी. अब हुए सर्वे के मुताबिक जिन इलाकों में ट्रैफिक सिग्नल से ज्यादा दिक्कत है, वहां समय निर्धारित किया जा रहा है. यदि संभव हो तो मैन्युअल रूप से परिवर्तन करने की व्यवस्था वर्तमान में की जा रही है. वराछा, वेसू, अडाजण रिंग रोड के अलग-अलग इलाके जहां सबसे ज्यादा ट्रैफिक देखने को मिलता है. उन सिग्नलों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है. गृह राज्य मंत्री ने कहा कि सिग्नल लगने के बाद सबसे अच्छी बात यह देखने को मिली है कि दुर्घटनाओं की संख्या में काफी कमी आई है. जितने दिनों से सिग्नल लगाया गया है उस समय और पिछले वर्ष के समान समय की तुलना में, जैसा कि अब देखा गया है, लगभग 11 घातक दुर्घटनाएँ रोकी गई है. लगभग 20 अन्य गंभीर दुर्घटनाएँ कम हो गई है.

सूरत शहर में कुछ ड्राइवर ऐसे भी हैं जिन्होंने मानों यह तय कर लिया है कि हमें ट्रैफिक नियमों की कोई परवाह नहीं है. बार-बार अलग-अलग ट्रैफिक नियम तोड़ने के फैसले के बाद अब तक इस वाहन से चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए है. शहर में 1,45,323 ड्राइवर ऐसे हैं जिन्होंने 5 से 10 बार नियमों का उल्लंघन किया है, 46,189 ड्राइवर ऐसे हैं जिन्होंने 15 से 20 बार नियमों का उल्लंघन किया है और 18257 ड्राइवर ऐसे है जिन्होंने 20 से 50 बार नियमों का उल्लंघन किया है. 4931 ड्राइवर ऐसे हैं जिन्होंने 51 से 100 बार नियम का उल्लंघन किया है. 1700 लोग ऐसे हैं जिन्होंने 101 बार नियम तोड़ा. सबसे अधिक बार यातायात उल्लंघन करने वालों को जनता के लिए खतरा माना जाता है, इसलिए इन सभी 4,931 लोगों और 1700 लोगों के लाइसेंस रद्द कर दिए जाएंगे.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here