Home बड़ी खबरें सीएम राजे की चादर की रस्म में शरीक होने के लिए भाजपा...

सीएम राजे की चादर की रस्म में शरीक होने के लिए भाजपा नेताओं में होड़ मची। वाजपेयी की चादर के मौके पर कोई नहीं आया था।

25
0
Listen to this article

अजमेर में चल रहे ख्वाजा साहब के सालाना उर्स में 31 मार्च को राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे की ओर से पवित्र मजार पर चादर पेश की गई। चादर की इस रस्म में शामिल होने के लिए भाजपा नेताओं में होड़ मची। स्कूली शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी, महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती अनिता भदेल, हज कमेटी के चेयरमैन अमीन पठान, एडीए के अध्यक्ष शिवशंकर हेड़ा, मेयर धर्मेन्द्र गहलोत, जिला प्रमुख वंदना नोगिया, पूर्व जिला प्रमुख सरिता गैना, शहर अध्यक्ष अरविंद यादव, पुष्कर के विधायक सुरेश रावत आदि मौजूद रहे। चादर की रस्म में शामिल होकर भाजपा के नेता स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहे थे। यह बात अलग है कि 29 मार्च को जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ओर से चादर पेश की गई तो एडीए के अध्यक्ष हेड़ा को छोड़कर कोई भी भाजपा नेता नहीं आया। हालांकि वाजपेयी के निजी सचिव शिव कुमार शर्मा की ओर से अधिकांश भाजपा नेताओं को सूचना भिजवाई गई थी। वाजपेयी की चादर और सीएम राजे की चादर के मौके पर भाजपा नेताओं की उपस्थिति यह दर्शाती है कि सत्ता में नहीं होने पर बड़े से बड़ा नेता भी महत्वहीन हो जाता है।
राजे ने अपने हाथों से सौंपी चादर :
31 मार्च की सुबह जयपुर में सीएम राजे ने अपने हाथों से चादर को सौंपा। इस मौके पर प्रदेश हज कमेटी के चेयरमैन अमीन पठान, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चें के अध्यक्ष मजीद कमांडो और दरगाह के खादिम अशफान चिश्ती उपस्थित थे। चिश्ती ने सीएम राजे को शॉल ओढ़ाया और दरगाह का तबर्रुक भेंट किया। चिश्ती ने ही दरगाह में सीएम की ओर से चादर पेश करने की रस्म अदा करवाई। इस मौके पर सीएम ने अपने संदेश में कहा कि सूफी संत ख्वाजा साहब की शिक्षाओं से ही देश में अमन-चैन कायम रह सकता है। उन्होंने उर्स में आने वाले जायरीन को भी मुबारकबाद दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here