Home पश्चिम बंगाल कोलकाता में हाईकोर्ट के आदेश से मनी रामनवमीं। आखिर क्यों बिगड़ रहे...

कोलकाता में हाईकोर्ट के आदेश से मनी रामनवमीं। आखिर क्यों बिगड़ रहे हैं बंगाल के हालात?

33
0
Listen to this article

कोलकाता, देशभर में रामनवमीं का पर्व उत्साह के साथ मनाया गया, लेकिन इसे दुर्भाग्यपूर्ण ही कहा जाएगा कि पश्चिम बंगाल के कोलकाता में दोपहर तक रामनवमीं का समारोह नहीं हो सका। दोपहर बाद जब हाईकोर्ट ने आदेश दिया तो श्रद्धालुओं ने रामनवमीं का पर्व मनाया। भारत की पहचान तो भगवान राम से ही है। ऐसे में यदि देश के किसी हिस्से में रामनवमीं मनाने पर ही रोक लगा दी जाए तो यह बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण है। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सरकार है। सीएम ममता बनर्जी के रवैए से भी प्रदेश के हालात बिगड़ रहे हैं। ममता सरकार यदि रामनवमीं मनाने की भी इजाजत नहीं दे रही है तो इससे हालातों का अन्दाजा लगाया जा सकता है। क्या रामनवमीं मनाने से कोलकाता में साम्प्रदायिक फसाद हो जाएगा? यह माना कि वोट के खातिर ममता बनर्जी ऐसी राजनीति कर रही है,ं जो राष्ट्रहित में नहीं है। यह तो अच्छा हुआ कि हाईकोर्ट ने रामनवमीं का समारोह करने की इजाजत दे दी अन्यथा ममता सरकार तो अब रामनवमीं भी नहीं मनाने दे रही हंै। असल में बेवजह की तुष्टीकरण की नीति अपनाई जा रही है। ममता को यूपी के चुनाव परिणाम से सबक लेना चाहिए। बसपा और सपा ने भी तुष्टीकरण की नीति अपनाई थी। लेकिन विधानसभा चुनाव के परिणाम बताते हैं कि तुष्टीकरण करने वालों का सूपड़ा साफ हो गया। असल में देश का कोई भी नागरिक रामनवमीं के खिलाफ है ही नहीं। रामनवमीं से तो भाईचारे का सन्देश जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here