Home जम्मू-काश्मीर घाटी में व्हाट्एप्प इंटरनेट और मोबाइल सेवाएं बंद होने से लगी...

घाटी में व्हाट्एप्प इंटरनेट और मोबाइल सेवाएं बंद होने से लगी वारदातों पर लगाम

30
0
Listen to this article

नयी दिल्ली : आतंकवाद और अलगाववाद से ग्रस्त कश्मीर घाटी में मोबाइल इंटरनेट सेवा को सस्पेंड किए जाने से सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी की वारदातों में नाटकीय रूप से कमी आयी है. घाटी में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में बाधा डालने और सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी के लिए युवाओं को व्हाट्एप्प ग्रुप के जरिये उकसाया जाता था. एक पुलिस अधिकारी ने रविवार को बताया कि करीब 300 व्हाट्एप्प ग्रुप के जरिये पत्थरबाजों को सुरक्षा बलों के ऑपरेशन की जानकारी दी जाती थी. इसके जरिये उन्हें मुठभेड़ स्थल पर इकट्ठा कराया जाता था.

कश्मीर में सुरक्षाबलों पर पत्थरबाज़ी की घटनाएं बढ़ गई थीं और हाल के दिनों में आतंकियों के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई के दौरान बाधा डालने की घटनाएं बढ़ गई थीं। इसके लिये घाटी के युवाओं को वॉट्सऐप और दूसरे सोशल एप के जरिये के उन्हें उकसाया जाता था।राज्य पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि कि इंटरनेट सेवा को निलंबित करने के फैसले से सकारात्मक नतीजे सामने आ रहे हैं। इससे मुठभेड़ स्थलों पर पत्थरबाजी पर लगाम लगा है। उन्होंने शनिवार को बडगाम जिले में आतंकियों के साथ मुठभेड़ का हवाला भी दिया।

अधिकारी ने बताया कि इन 300 वॉट्सऐप ग्रुप में से प्रत्येक में करीब 250 सदस्य होते थे। उन्होंने बताया कि इन वॉट्सऐप ग्रुप के जरिए मुठभेड़ की जगह पर पत्थरबाजों की भीड़ जुटाई जाती थी जो सुरक्षा बलों के ऑपरेशन में बाधा पहुंचाने की कोशिश करती थी। नाम जाहिर न करने की शर्त पर अधिकारी ने बताया, ‘हमने ऐसे वॉट्सऐप ग्रुप और ग्रुप ऐडमिनिस्ट्रेटर्स की पहचान की और उन्हें काउंसलिंग के लिए बुलाया। हमें इस पहल का बहुत ही अच्छा नतीजा मिला।’ अधिकारी के मुताबिक पिछले तीन हफ्तों में इनमें से 90 प्रतिशत से ज्यादे ग्रुप बंद हो चुके हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here