Home उत्तर प्रदेश कलयुगी पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर जन्म-जन्म तक साथ रहने के...

कलयुगी पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर जन्म-जन्म तक साथ रहने के सात फेरे लेने वाले पति की हत्या, पुलिस ने अंधी हत्या का किया खुलासा ।

42
0
Listen to this article

बढ़ता कारवाँ/सिंगरौली,बैढन जिला पुलिस अधिक्षक कार्यालय सभागार मे माडा थानान्तर्गत करामी गांव में एक बेवफा पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने पति की हत्या दिनांक 08 अप्रैल 2017 रात्रि में घातक औजार कुल्हाड़ी से हमला कर मौत की नींद सुला दी ।

आरोपी महिला एवं उसके प्रेमी को माडा पुलिस ने गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया गया, देवनारायण पाल पिता- खेलई पाल उम्र 45 वर्ष जो करामी गांव में दूसरे की मजदूरी करके अपना जीवन यापन करता था , लेकिन 8 अप्रैल 2017 की रात्रि उसकी पत्नी और प्रेमी ने मिलकर कुल्हाड़ी से उसकी हत्या कर दी। मृतक देवनारायण पाल की पत्नी दुलारी पाल पिछले करीब 2-3 वर्षो से सेमरिया गांव के निवासी छोटेलाल यादव उम्र 35 से प्रेम करती थी ,जिसका विरोध लगातार देवनारायण पाल करता था। मृतक देवनारायण पाल की पत्नी को यह बात नागवार गुजरती थी, दुलारी पाल और उसके प्रेमी छोटेलाल यादव का उसी के घर में अक्सर मिलना – जुलना कभी दिन में तो कभी रात में हुआ करता था, दुलारी के पति और लड़का बहु के द्वारा जब आपत्ति की जाती थी तो दुलारी पाल विचलित हो जाती थी। घटना के तीन – चार दिन पहले दुलारी पाल अपने प्रेमी छोटेलाल यादव उर्फ ठाकुर दयाल यादव पिता- नाहर यादव उम्र- 35 वर्ष के साथ महुआ बीनने कोहिर छत्तीसगढ़ गयी, कोहिर के घने जंगलो में दोनों ने देवनारायण पाल की हत्या की साजिश रच डाली ,और अँधेरी रात में ही कोहिर से करामी के लिए अपने प्रेम के कांटे को हमेशा के लिए अलग करने के लिए रवाना हुए और आधी रात को करामी गांव में उसके ही घर कुल्हाड़ी से मृतक के सर में गंभीर चोटें पहुंचाकर देवनारायण पाल की जीवन लीला समाप्त कर दी। फिर घटना के बाद से ही छोटेलाल यादव फरार हो गया औऱ दुलारी पाल अपने घर वापस आकर अपने प्रेम के दूसरे काँटे उसका लड़के राजेन्द्र और अपनी बहू को घर से बेदखल कर दिया।

लेकिन ऐसा कभी नही हो सकता कि अपराधी अपराध करे और कोई साक्ष्य न छोड़े पुलिस ने कुल्हाड़ी और खून लथपथ कपड़ों को बरामद करके आरोपी छोटेलाल यादव और उसकी प्रेमिका दुलारी पाल को धर दबोचा।

देवनारायण पाल के हत्या की खबर के बाद उसके बेटे ने भी मांग की थी की देवनारायण पाल की हत्या का जल्द से जल्द पर्दाफाश किया जाये और पुलिस ने महज लगभग 2 महीने में ही देवनारायण पाल की हत्या की गुत्थी सुलझा ली। पुलिस अधीक्षक के द्वारा आरोपियों को पकड़ने के लिए 10000/- दस हजार रुपये का इनाम भी रखा गया था ,पुलिस अधीक्षक सिंगरौली के द्वारा गठित टीम ने इस अंधी हत्या का खुलासा करने में माडा पुलिस ने सफलता हासिल की है ।

घटना की खुलासा मे पुलिस अधीक्षक सिंगरौली, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक- सूर्यकान्त शर्मा के कुशल नेतृत्व में गठित टीम थाना प्रभारी- माड़ा दिनेश जाटव, उपनिरीक्षक अश्वनी शुक्ला, उमेश अग्निहोत्री, सुनील दुबे, पप्पू सिंह, जीवेंद्र मिश्रा, रामायण द्विवेदी, विजय अग्निहोत्री, बिशेश्वर साकेत, अजीत सिंह परिहार, दीपेश, जितेंद्र की अहम भूमिका रही ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here