Home मध्यप्रदेश नेहरू युवा केंद्र दमोह संकल्प से सिद्धि-नये भारत के लिये युवा सशक्तिकरण...

नेहरू युवा केंद्र दमोह संकल्प से सिद्धि-नये भारत के लिये युवा सशक्तिकरण कार्यक्रम

131
0
Listen to this article
विशाल रजक तेन्दूखेड़ा/दमोह, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार के अंतर्गत नेहरू युवा केंद्र दमोह के तत्वाधान में स्थानीय वार्ड क्र.12 स्थित आगनबाड़ी केंद्र तेन्दूखेड़ा में एक भारत-श्रेष्ठ भारत के अन्तर्गत संकल्प से सिद्धि-नये भारत के लिये युवा सशक्तिकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया।
   इस अवसर पर मुख्य अतिथि रिटायर्ड ब्लाक मेडीकल ऑफिसर डॉ.एस.एन.गुप्ता ने अपने वक्तव्य में विशेष रूप से उपस्थित सभी महिलाओ और युवाओ को निर्देशित करते हुये कहा कि-सिर्फ खानापूर्ति से नहीं बल्कि स्वयं में परिवर्तन लाकर ही हम समाज को एक स्वच्छ्ता और समृद्धता की ओर ले जा पायेगे।स्वच्छ्ता और स्वास्थ्य एक दुसरे से जुड़े हुये हैं-हम सामाजिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य की ओर ध्यान देकर ही अपने जीवन को सही दिशा में ले जा पायेंगे।अस्वस्थता ही गरीबी की मूल जड़ है,जब तक हम स्वास्थ्य के प्रति जागरूक नहीं होंगे और अपनी दैनिक आदतो को नहीं बदलेगे तब तक बेहतर परिणाम देखने को नहीं मिलेंगे।इसलिये कहा भी गया हैं-स्वच्छ्ता ही अच्छे स्वास्थ्य का मूल आधार हैं।
  नेहरू युवा केंद्र के प्रोग्राम कॉर्डिनेटर अमित सिंह ठाकुर  ने भी अपने उदबोधन में कार्यक्रम के उदेशय से सभी को अवगत कराते हुये कहा- जब तक हम खुद जागरूक नहीं,तब तक जनजागृति नहीं लाई जा सकती
 आशियाना संस्कार समिति के प्रबंधक प्रशांत चौबे ने कहा कि-भारत युवाओ का देश हैं,युवाओं को आगे आकर राष्ट्र के नवनिर्माण और समाज उत्थान में महती भूमिका निभानी चाहिये।आज हमारे देश जाति,सम्प्रदाय और धर्म के आधार पर विविधता में भी एकता लिये हुये हैं।आज हमे सीमित मानसिकता से आगे आकर युवा सोच के साथ आगे बढ़ना होगा,तभी यह राष्ट्र स्वच्छ और निर्मल भारत बनेगा।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि इनोवेटिव आईटीआई के संचालक विक्रम राजपूत जी ने कहा हैं-
आज हमारा देश युवा सोच के साथ आगे बड़ रहा हैं,भारत श्रेष्ठ तभी बन सकता हैं,जब एक हो।आज के समय में महिलाओ एवं बेटियों को भी आवश्यकता हैं कि-समय के साथ आगे बडते हुये टेक्नोलॉजी के इस युग में इसका सार्थक उपयोग करते हुये, रचनात्मक एवं सामाजिक कार्यो में अपनी नैतिक भूमिका एवं राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदरियो को समझे। स्वच्छ्ता ही सम्रद्ध और खुशहाली की निशानी हैं, अतःस्वच्छ भारत अभियान की दिशा में अपना योगदान दे,   क्योंकि युवा सोच के साथ ही परिस्थितियों  में बदलाव लाया जा सकता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here