Home बड़ी खबरें चित्तौड़ में पटरी से उतरा बांद्रा का कोच- शंटिंग के दौरान हादसा

चित्तौड़ में पटरी से उतरा बांद्रा का कोच- शंटिंग के दौरान हादसा

57
0
Listen to this article

चित्तौड़गढ़, (हि.स.)। पश्चिमी रेलवे रतलाम के अंतर्गत आने वाले चित्तौड़गढ़ स्टेशन पर शनिवार रात एक बड़ा हादसा टल गया। बांद्रा टर्मिनस का गार्ड वाला एसएलआर कोच बेपटरी हो गया। गनीमत रहा कि ट्रेन पटरी से नहीं उतरी। स्टेशन पर हादसे की सूचना मिलते ही रेलवे महकमे में हड़कम्प मच गया। देर रात एसएसआर कोच को यहीं रोक ट्रेन को आगे रवाना किया गया।
जानकारी के अनुसार चित्तौड़ रेलवे स्टेशन पर ही करीब 11 बजे यह हादसा हुवा है। बांद्रा जाने वाली ट्रेन में कुछ डिब्बे अजमेर से तो कुछ डिब्बे उदयपुर से आने वाली ट्रेन के जोड़े जाते हैं। इसके बाद एक ट्रेन कर बांद्रा के लिए रवाना किया जाता है। जानकारी में सामने आया कि शनिवार रात को भी प्लेटफॉर्म संख्या 4 पर एक ट्रेन को खड़ा कर दिया था। वही अजमेर से आई ट्रेन के डिब्बों को काट कर जोड़ा जा रहा था। डिब्बे जोड़ने के बाद शंटिंग की गई थी। इसी दौरान करीब 100 मीटर पीछे की तरफ रोलबेक हुई। इस ट्रेन में पीछे की तरफ लगा गार्ड का डिब्बा नीचे उतर गया। गनीमत ये रहा की ट्रेन ज्यादा दूरी पर नहीं गई और गति भी ज्यादा नहीं थी। इससे बड़ा हादसा टल गया। गार्ड के डिब्बे में कोई सवारी भी नहीं थी, जिससे कोई हताहत भी नहीं हुआ। ट्रेन एक डिब्बा पूरी तरह से नीचे उतर गया था। इसकी सूचना मिलते ही रेलवे के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में अधिकारी मौके पर दौड़ पड़े। तत्काल मंडल रेल मुख्यालय रतलाम सूचना भी की गई और राहत कार्य शुरू किया गया। जानकारी में सामने आया कि जो डिब्बा पटरी से नीचे उतरा था उसे यही काट कर ट्रेन से अलग कर दिया। शेष ट्रेन को बांद्रा के लिए रवाना कर दिया। जानकारी में सामने आया कि इस प्रक्रिया में करीब 3 घंटे का समय लग गया यह ट्रेन करीब 3 घंटे देरी से बांद्रा के लिए रवाना हुई। अमूमन यह ट्रेन रात 11.15 बजे रवाना होती है वहीं शनिवार को फेरे में ट्रेन करीब 2.35 बजे रवाना की गई। इससे यात्रियों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ा है
हूटर बजते ही सकते अधिकारी
जानकारी में सामने आएगी आया की रात करीब 11 बजे चित्तौड़ रेलवे स्टेशन के कंट्रोल रूम में लगा हूटर बजने लगा। थोड़ी-थोड़ी देर के अंतराल में रात के सन्नाटे में हूटर की आवाज पांच बार सुनाई दी तो हर कोई हरकत में आ गया। स्टेशन के आस-पास रहने वाले लोग भी अनहोनी की आशंका में भयभीत हो उठे। दुर्घटना राहत ट्रेन के कर्मचारियों के अलावा रेलवे के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here