Home झारखंड मरते-मरते दो अंधेरी जिंदगियां रोशन कर गयीं किरण

मरते-मरते दो अंधेरी जिंदगियां रोशन कर गयीं किरण

56
0
Listen to this article

बोकारो, (हि.स.)।
चास के जाने-माने व्यवसायी चेतनमल बैद की सास किरण देवी दुधेडिया की मौत 27 मार्च को हृदयगति रुकने से हो गयी। लेकिन, जाते-जाते 85 वर्षीय किरण अपनी आंखों के जरिये दो अंधों को इस रंगीन दुनिया का दीदार कराने का महादान कर गयीं। जीते-जी तो वह हमेशा सामाजिक-उत्थान व परोपकारी कार्यों में लगी ही रहीं, अपनी मौत पर भी उन्होंने नेत्रदान जैसा महान कार्य संपन्न किया। उनकी इच्छा थी कि उनके मरने के बाद उनकी आंखों से कोई नेत्रहीन रोशनी पा सके और उनकी इस मुराद को उनके परिजनों से पूरा किया। परिजनों ने इस पुनीत कार्य के लिये बोकारो जेनरल अस्पताल के नेत्र अधिकोष (आई बैंक) प्रभारी डा. संजय चौधरी से संपर्क किया। बीजीएच के डाक्टरों की टीम ने भी तत्परता का परिचय देते हुए मानवता के महान कार्य को रात में 11 बजे उनके आवास पहुंचकर अंजाम दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here