Home आप बीती बीड़ी-गुटखा न मिलने पर कैदियों ने की भूख हड़ताल, एक की मौत

बीड़ी-गुटखा न मिलने पर कैदियों ने की भूख हड़ताल, एक की मौत

81
0
Listen to this article

जौनपुर (ईएमएस)। देश में धरना प्रदर्शन और हड़ताल करना तो आम हो चुका है, जो कई बार देखते और सुनते को मिलता है। लेकिन उत्तर प्रदेश स्थित जौनपुर में एक अजीब हड़ताल देखने को मिली। यहां जिला जेल में कैदी अच्छा खाना, पान मसाला और खैनी न मिलने के कारण हड़ताल पर चले गए। इतना ही नहीं इस दौरान एक कैदी की जेल में मौत भी हो गई। कैदियों ने आरोप लगाया कि कैदी की मौत भूख हड़ताल और पिटाई के चलते हुई है, वहीं जेल प्रशासन का कहना है कि बीमारी के चलते कैदी ने दम तोड़ा है। अब डीएम ने मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। बता दें कि जिला जेल में 7 जुलाई को डीएम अरविंद मलप्पा और एसपी विपिन कुमार ने छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान जेल से मोबाइल, बीड़ी, सुर्ती, सिगरेट, पान मसाला, गांजा समेत कई अन्य मादक पदार्थ बरामद हुए थे। जिसके बाद से ही जेल में सख्ती बरती जा रही थी। इसी सख्ती के विरोध में सोमवार को कैदियों ने भूख हड़ताल का ऐलान कर दिया था। बंदियों का आरोप है कि उनको मिलने वाला खाना अच्छा नहीं है और सुविधाएं भी काफी खराब हैं। यहां तक कि कोर्ट में पेशी पर लाए गए कैदियों ने मीडिया को भी इस बारे में सूचित कर दिया था।भूख हड़ताल के दौरान कैदियों ने नारेबाजी की, जिसके बाद सोमवार शाम को ही डीआईजी ने सुर्ती और तंबाकू पर लगा प्रतिबंध हटाने का आश्वासन देकर भूख हड़ताल को खत्म करवाया था। परंतु बाद में मंगलवार सुबह जौनपुर जिले के ही कैदी जयराम की संदिग्‍ध परिस्थिति में मौत हो गई। जेलर संजय सिंह ने इसके पीछे बीमारी का कारण बताया। वहीं कैदियों ने आरोप लगाया कि डिप्टी जेलर ने जयराम की पिटाई की थी। उन्होंने बताया कि हड़ताल से भड़के जेलर उसकी पिटाई कर दी। जिसके बाद उसकी मौत हो गई। वहीं इस बात का खंडन करते हुए जेलर ने बताया कि जयराम की तबियत खराब होने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां पर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएम ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here