Home उत्तर प्रदेश पीड़िता की सुरक्षा में 10 गार्ड, हादसे के समय एक भी नहीं!-...

पीड़िता की सुरक्षा में 10 गार्ड, हादसे के समय एक भी नहीं!- सपा अध्यक्ष अखिलेश और कांग्रेस ने मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की

54
0
Listen to this article

लखनऊ (ईएमएस)। उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए हादसे पर पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह का मानना है ‎कि प्रथम दृष्टया यह एक्सीडेंट का मामला लग रहा है। डीजीपी ने कहा कि पूरे मामले की बारीकी से जांच की जा रही है। एक टीम गठित की गई है, जो पूरे मामले की जांच कर रही है। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि पीड़िता की सुरक्षा को लेकर 10 पुलिसकर्मियों को लगाया गया था। 7 पुलिसकर्मी हाउस गार्ड के रूप में लगे थे, जबकि 3 पुलिसकर्मी रेप पीड़िता के साथ रहते हैं।
पीड़िता ने पुलिस कर्मियों से कहा था कि जब जरूरत होगी तो आपको बुला लेंगे। यही वजह थी कि हादसे के समय सुरक्षाकर्मी उनके पास नहीं था, क्योंकि उन्होंने मना किया था। उन्होंने कहा कि शुरुआती जांच में यह एक दुर्घटना का मामला लगता है क्योंकि ट्रक तेज रफ्तार से आ रहा था। उन्होंने कहा कि प्रत्यक्षदर्शियों के बयान भी दर्ज कर लिए गए हैं। इसी बीच देखा गया कि ट्रक की नंबर प्लेट पर काला रंग पुता हुआ था जो मामले में बड़ी साजिश का इशारा करते हैं। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव और कांग्रेस ने मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग की है।
दूसरी ओर अतरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है। उससे पूछताछ जारी है। दुष्कर्म पीड़िता के वकील महेंद्र सिंह के जूनियर विमल ने बताया कि दुष्कर्म पीड़िता, मां, चाची और वकील हादसे में घायल हुए हैं। इस हादसे में मां और चाची की मौत हो गई है, जबकि दुष्कर्म पीड़िता और उसके वकील की हालत गंभीर है। बाकी घायलों का इलाज लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है। हादसे में एक अन्य महिला की भी मौत हुई है। जिस ट्रक से कार की टक्कर हुई है, उस पर सिर्फ यूपी 71 लिखा हुआ है। नंबर प्लेट पर लिखे नंबर को छुपाने के लिए उसे काले रंग से रंग दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here