Home जम्मू-काश्मीर जल्द नहीं सुलझने वाला भारत चीन के बीच लद्दाख में गतिरोध

जल्द नहीं सुलझने वाला भारत चीन के बीच लद्दाख में गतिरोध

143
0
भारत चीन के बीच लद्दाख में गतिरोध
Listen to this article

नई दिल्ली (एजेन्सी)। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ सीडीएस जनरल बिपिन रावत सहित भारतीय सेना के शीर्ष अधिकारियों ने सोमवार को सांसदों की एक समिति को सूचित किया कि लद्दाख में डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया लंबी है, लेकिन भारतीय सशस्त्र बल इसके लिए तैयार हैं। कड़ाके की सर्दियों के लिए सेना की तैनाती के सभी इंतजाम किए गए हैं।

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच मई महीने से ही गतिरोध जारी है। जून में यह गतिरोध हिंसक झड़प में तब्दील हो गया था। 14 जून को भारत और चीनी सैनिकों के बीच टकराव हुआ, जिसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि बड़ी संख्या में चीनी सैनिक भी हताहत हुए।

बैठक में भाग लेने वाले शीर्ष जनरल और थ्री-स्टार जनरलों ने भी इस बात पर जोर दिया कि भारतीय सशस्त्र बल किसी भी हमले का सामना करने के लिए तैयार हैं। इसके साथ ही, चीन के साथ आए विश्वास में कमी को भी वापस लाया जा रहा है। जनरल रावत के अलावा, भारतीय सेना के उप-प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल एस. के. सैनी सहित कम से कम चार तीन-स्टार जनरल्स भी मौजूद थे।

गलवान घाटी की हिंसक झड़प के बाद चीनी सेना के साथ उसी स्तर का विश्वास फिर से हासिल करना काफी मुश्किल भरा होने जा रहा है। यह डी-एस्केलेशन और डिस-एंगेजमेंट की प्रक्रिया में बाधा पहुंचा सकता है। वहीं, चीन के साथ गतिरोध पर रक्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर दस्तावेज अपलोड किए थे।

इसमें कहा था कि पर चीनी आक्रामकता बढ़ती जा रही है और मौजूदा गतिरोध लंबे समय तक जारी रह सकता है। मंत्रालय ने कहा कि चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी पीएलए 17-18 मई को कुगरांग नाला, गोगरा और उत्तरी बैंक के पैंगोंग त्सो के क्षेत्रों में भारत की ओर आई। हालांकि, बाद में मंत्रालय की वेबसाइट से दस्तावेज हटा लिए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here