Home उत्तर प्रदेश मुलायम के सामने झलका शिवपाल का दर्द, कहा- मुझे विलेन बनाया गया

मुलायम के सामने झलका शिवपाल का दर्द, कहा- मुझे विलेन बनाया गया

35
0
Listen to this article

नई दिल्ली/लखनऊ ,उत्तरप्रदेशमें सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी में जारी चाचा-भतीजे की जंग पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव तक पहुंच गई। नाराज शिवपाल यादव ने बुधवार को दिल्ली में बड़े भाई मुलायम के साथ पांच घंटे से ज्यादा समय तक मैराथन बैठक की। मुलायम ने सीएम अखिलेश यादव को भी दिल्ली बुलाया था, लेकिन वह नहीं पहुंचे। अब रामगोपाल यादव गुरुवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलेंगे। संभवत: शुक्रवार को मुलायम इस प्रकरण पर किसी एक्शन का ऐलान करें। सूत्रों के अनुसार शिवपाल ने मुलायम से दो टूक कहा कि उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं हुआ। वह सरकार से इस्तीफा देने पर अड़े हैं। हालांकि, उन्होंने मीडिया से कहा कि वह मंत्री भी हैं और प्रदेशाध्यक्ष भी। नेताजी की हर बात मानी जाएगी।वहीं,लखनऊ में अखि‍लेश ने भी कहा कि नेताजी की हर बात मानी जाएगी। दो दिन पहले खनन मंत्री के पद से बर्खास्त गायत्री प्रसाद प्रजापति और पूर्व मुख्य सचिव दीपक सिंघल भी दिल्ली में मुलायम के घर डेरा डाले हुए हैं। इसी बीच, अखिलेश ने शिवपाल के साथ प्रस्तावित एक कार्यक्रम ऐन मौके पर रद्द कर दिया। मंगलवार को एकाएक मुलायम ने यूपी के मुख्यमंत्री और अपने बेटे अखिलेश को सपा प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर भाई शिवपाल यादव को यह जिम्मा सौंप दिया था। इस पर भड़के अखिलेश ने अपनी कैबिनेट में शिवपाल से कई अहम विभाग छीन लिए थे।
नेताजीकी बात मानता हूं, लेकिन खुद भी करता हूं फैसले:
अखिलेश ने कहा कि मुलायम की बात परिवार में कोई नहीं टाल सकता। उन्होंने आज तक कोई बात नहीं काटी और ही कभी काटेंगे। अखिलेश ने स्पष्ट किया कि कुछ मामलों में उन्होंने खुद भी निर्णय लिए हैं। इसका यह मतलब नहीं कि वह नेताजी के खिलाफ जाएंगे।
राहुल की चुटकी, अखिलेश ने साइकिल का पहिया निकाल फेंका:
मिर्जापुर|यादव कुनबे में घमासान पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने चुटकी ली है। राहुल बोले कि सपा की साइकिल तो पहले ही पंक्चर हो चुकी थी। कल अख‍िलेश ने साइकिल का एक पहिया भी निकाल कर फेंक दिया। उन्होंने कहा कि अखिलेश ने कार्रवाई में तनिक देर कर दी। images (5)
अखिलेश को कार्यवाहक अध्यक्ष बनाने की जमीन तो नहीं हो रही तैयार?
राजनीतिके जानकार कहते हैं कि 2 जून, 1995 को बसपा अध्यक्ष मायावती के साथ स्टेट गेस्ट हाउस में सपा नेताओं द्वारा की गई बदसलूकी के मामले में जल्द ही फैसला आने वाला है। मामले में मुलायम और शिवपाल आरोपी हैं। यह घटनाक्रम उससे भी जोड़कर देखा जा रहा है। राजनीतिक हलकों में इसी वजह से अखिलेश को कार्यवाहक अध्यक्ष बनाने की भी चर्चा है।
अमर का जवाब: अखिलेश बच्चा था, लेकिन अब समझदार हो गया
चेन्नई| सपासांसद अमर सिंह ने कहा कि अखिलेश को कल और आज में तालमेल बैठाना होगा। अखिलेश मेरे बच्चे जैसा है। लेकिन वह अब बड़े और समझदार हो गए हैं। उन्होंने कहा कि मुलायम मुझसे प्यार करते हैं। यही लोगों की समस्या है। कुछ लोग चाहते हैं कि वह मुझसे घृणा करें। अमर सिंह पर निशाना; अखिलेश बोले- बाहरी आदमी संकट की जड़ सपाकी उथल-पुथल को सीएम अखिलेश ने सरकार का संकट बताया। उन्होंने कहा कि परिवार एक है और एक रहेगा। मौजूदा संकट के लिए परिवार से बाहर का व्यक्ति जिम्मेदार है। मंत्री और मुख्य सचिव क्यों हटाए, यह शिवपाल बखूबी जानते हैं। अखिलेश ने किसी का नाम तो नहीं लिया, लेकिन समझा जा रहा है कि यह निशाना सांसद अमर सिंह पर था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here