Home सूरत मां अंबे की मूर्ति विसर्जन करने डूमस समुद्र तट पर गए दो...

मां अंबे की मूर्ति विसर्जन करने डूमस समुद्र तट पर गए दो जनों की डूबने से मौत

43
0
Listen to this article

सूरत।पांडेसरा क्षेत्र से मंगलवार को हो गई, जबकि एक युवक को लोगों ने बचा लिया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
पांडेसरा बमरोली रोड पर भक्तिनगर निवासी नीतेश अखिलेश मिश्रा (23) मंगलवार सुबह सोसायटी के 40-45 लोगों के साथ ट्रक में मां अंबे की मूर्ति विसर्जित करने डूमस गया था। दरिया गणेश के पास मूर्ति विसर्जन के दौरान इन्होंने लोगों के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनीं। पता चला कि दो जने डूब रहे थे। तभी नीतेश भीड़ के बीच से गुम हो गया। दमकल विभाग को जानकारी दी गई।
लोगों ने कुछ देर बाद नीतेश को पानी से बाहर निकाला। उसे 108 एम्बुलेंस में न्यू सिविल अस्पताल लाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। उसके दोस्त दीपक राय ने बताया कि नीतेश खटोदरा क्षेत्र के एम्ब्रोयडरी कारखाने में नौकरी करता था। वह मूल रूप से बिहार के वैशाली जिले का निवासी था। पांडेसरा महादेवनगर निवासी मोहित प्रदीप सिंह राजपूत (16) भी मंगलवार सुबह दोस्तों के साथ मां अंबे की मूर्ति विसर्जन करने डूमस गया था। दरिया गणेश के पास ही मोहित और उसका दोस्त राजेश दयाराम निशाद पानी में डूबने लगे। लोगों ने दमकल विभाग को सूचना दी। दमकल के जवानों ने मोहित को बाहर निकाला, लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी। वह दसवीं कक्षा का छात्र था और मूल रूप से उत्तरप्रदेश के इलाहाबाद का निवासी था। दमकल विभाग के पहुंचने से पहले लोगों ने राजेश को निकालकर 108 एम्बुलेंस से अस्पताल भिजवा दिया था। उसे बमरोली रोड के श्रीजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
45 मिनट बाद पहुंची फायर ब्रिगेड डूमस दरिया किनारे मूर्ति विसर्जन यात्रा को ध्यान में रखते हुए प्रशासन की ओर से कोई व्यवस्था नहीं की गई थी। डूबने वाले नीतेश के दोस्त दीपक राय ने बताया कि दमकल विभाग को सूचना देने के 45 मिनट बाद गाड़ी पहुंची। उससे पहले नीतेश को लोगों की मदद से निकाल कर अस्पताल ले जाया गया था। दमकल विभाग के पास मोहित के डूबने तथा एक को बचाने की जानकारी है,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here