Home दिल्ली पाक एंबेसी में लड़कियों की सप्लाई भी करते थे ये जासूस, पाकिस्तान...

पाक एंबेसी में लड़कियों की सप्लाई भी करते थे ये जासूस, पाकिस्तान गया था शोएब

35
0
Listen to this article

नई दिल्ली। पाकिस्तान उच्चायोग जासूसी कांड में दिल्ली पुलिस ने एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। गुरूवार रात को दिल्ली पुलिस ने शोएब नाम के एक शख्स को जोधपुर से पकड़ा। शोएब पर गुरूवार को गिरफ्तार किए गए रमजान और सुभाष के साथ मिलकर जासूसी करने और उच्चायोग के अफसर महमूद अख्तर को बॉर्डर से जुड़ी अहम जानकारियां देने का आरोप है।
सूत्रों के मुताबिक शोएब ही इस पूरे जासूसी कांड में हनी ट्रैप के लिए लड़कियां सप्लाई करवाता था। रमजान और सुभाष के साथ शोएब 25 तारीख को दिल्ली आया था। पर ये चिडिय़ाघर ना जाकर दिल्ली के शांतिकुंज होटल में ही रूक गया था। जब इसे दोनों की गिफ्तारी की जानकारी मिली तो भाग गया। शोएब 6 बार पाकिस्तान भी जा चुका है। शोएब एक वीजा एजेंट है और पाकिस्तान हाई कमिशन में इसकी अच्छी पहचान है। सूत्रों के मुताबिक शोएब ने क्राइम ब्रांच की पूछताछ में कबूल किया है कि वो लड़कियां सप्लाई करता था। इसके पास से एक फेबलेट और कुछ महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट मिले हैं। इसके अलावा पाक हाई कमिशन में एंट्री का एक विजिटर कार्ड भी मिला है। शोएब राजस्थान और गुजरात बॉर्डर के सेना और बीएसएफ से जुड़ी अहम जानकारियां रमजान और सुभाष को देता था। इसके बाद ये जानकारी महमूद को दी जाती थी।
दिल्ली पुलिस ने गुरूवार को पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी महमूद अख्तर को गिरफ्तार किया था जो रमजान-सुभाष से भारत-पाक सीमा पर तैनात बीएसएफ कर्मियों से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी हासिल कर रहा था।
क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि राजस्थान में पकड़े गए आइएसआइ मॉडयूल के केंद्र शोएब और मौलाना रमजान खान हैं। नई दिल्ली [विनीत त्रिपाठी]। वीजा एजेंट शोएब देश के खिलाफ साजिश रच रहा था। रुपयों के लालच में वह दुश्मनों से मिल गया था और लगातार उनके संपर्क में था। शोएब के संपर्क सिर्फ पाक उच्चायोग के वीजा अफसर से ही नहीं पाक खुफिया एजेंसी आइएसआइ के अधिकारियों से भी थे। पाकिस्तान जाने के दौरान उसकी मुलाकात आइएसआइ के अधिकारियों से हुई थी, जिन्होंने उससे गुजरात एवं राजस्थान सीमा से सटे इलाकों की जानकारी देने को कहा था। क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि राजस्थान में पकड़े गए आइएसआइ मॉडयूल के केंद्र शोएब और मौलाना रमजान खान हैं। वीजा एजेंट के तौर पर काम करने के दौरान शोएब की मुलाकात पाक उच्चायोग में तैनात वीजा अफसर महमूद अख्तर के जरिये कई अधिकारियों से हुई।130396-shoib (1)
क्लिक कर जानें, दिल्ली में कहांं बनाया था जसूसों ने ठिकाना
पाकिस्तान वीजा के लिए शोएब के पास आने वाली महिलाओं को वह महमूद अख्तर से यह कहकर मिलवाता था कि उनका काम आसानी से हो जाएगा और इसी के बहाने उनका शारीरिक शोषण भी किया जाता था। शोएब और महमूद के बीच दोस्ती बढ़ी तो महमूद ने शोएब से कहा कि वह गुजरात एवं राजस्थान क्षेत्र में ऐसे लोगों का नेटवर्क तैयार करे जो सेना, बीएसएफ एवं पैरामिलिट्री से जुड़ी जानकारी उन्हे दें। शोएब को प्रभाव में लेने के लिए महमूद अख्तर से उसकी मुलाकात पाक उच्चायोग के कई अफसरों से कराई, जो भारत के अंदर जासूसों का नेटवर्क तैयार करने का भी काम करते हैं।images
दिवाली से पहले सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट, दिल्ली में चप्पे-चप्पे पर कड़ी निगरानी
बीते कुछ वर्षों में शोएब छह बार पाकिस्तान भी गया। वहां उसके परिजनों के रिश्तेदार रहते है, लेकिन वहां जाने के पीछे भी शोएब का मकसद कुछ और ही था। जांच अधिकारियों की मानें तो महमूद अख्तर ने शोएब की पाकिस्तान में कुछ आइएसआइ अधिकारियों से मुलाकात कराई, जहां उसे विशेष तौर पर यह बताया गया कि आइएसआइ को किस तरह की सूचना चाहिए और उसे किस तरह से काम करना है। भारत आने के बाद भी फर्जी फेसबुक आइडी के जरिए शोएब आइएसआइ के कुछ लोगों के संपर्क में था और लगातार उन्हें जानकारी उपलब्ध कराता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here