Home दिल्ली जासूसी रैकेट केसः सपा नेता का PA गिरफ्तार, अब तक कुल 4...

जासूसी रैकेट केसः सपा नेता का PA गिरफ्तार, अब तक कुल 4 आरोपी पकड़ में

52
0
Listen to this article

नई दिल्ली। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने के मामले में दिल्ली पुलिस ने समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सदस्य मुनव्वर सलीम के निजी सचिव फरहत खान को गिरफ्तार कर लिया है। फरहत को कोर्ट में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया गया है। इससे पहले अपराध शाखा इस मामले में मौलाना रमजान, सुभाष जांगिड़ और शोएब को गिरफ्तार कर चुकी है। ये तीनों भी रिमांड पर हैं। संयुक्त आयुक्त रविंद्र यादव ने बताया कि फरहत शामली (उत्तर प्रदेश) जिले के कैराना का रहने वाला है। वह पिछले एक साल से मुनव्वर सलीम का निजी सचिव है। पिछले दिनों पुलिस ने पाक उच्चायोग के वीजा अफसर महमूद अख्तर को पकड़ कर जासूसी मामले का भंडाफोड़ किया था। पूछताछ के दौरान महमूद अख्तर ने फरहत के बारे में जानकारी दी थी। अख्तर ने बताया था कि फरहत खान उसे सेना, बीएसएफ और अर्द्धसैनिक बलों से जुड़े गोपनीय दस्तावेज देता है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, फरहत 1998 से आईएसआई के संपर्क में है। उसने जल, रक्षा, गृह और पेट्रोलियम मंत्रालय से जुड़े बेहद अहम और गोपनीय दस्तावेज आईएसआई को सौंपे हैं। इन मंत्रालयों से जुड़े कागजात वह फोटो स्टेट कराकर अपने पास रख लिया करता था। बाद में उन्हें पाक एजेंटों को मुहैया करा देता था।
पाक उच्चायोग का वीजा अधिकारी महमूद अख्तर शुरू में हर मीटिंग के लिए उसे पांच हजार रुपये देता था। अब इसके लिए 25 से 30 हजार रुपये दिए जा रहे थे। इसके अलावा वह जो भी गोपनीय दस्तावेज मुहैया करवाता था, उसके लिए अलग से मोटी रकम दी जाती थी।
मुनव्वर सलीम से पहले फरहत खान अन्य सांसदों का भी पीए रह चुका है। इस वजह से उसे आसानी से संसद भवन से गोपनीय दस्तावेज मिल जाते थे। फरहत उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का शामली जिलाध्यक्ष भी है। उसे शनिवार को पूछताछ के लिए चाणक्यपुरी स्थित क्राइम ब्रांच के इंटर स्टेट सेल में बुलाया गया था। वहां पूछताछ के बाद उसे दबोच लिया गया।
सांसद ने खुद को पाक साफ बताया विदिशा। सपा के राज्यसभा सदस्य मुनव्वर सलीम ने खुद को पाक-साफ बताते हुए कहा है कि फरहत मामले में वे जांच एजेंसियों से पूरा सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि वह एक साल पहले ही पीए के रूप में उनके यहां नियुक्त हुआ था।
राज्यसभा सचिवालय और पुलिस के सत्यापन के बाद ही उसे रखा गया था। उन्होंने कहा कि इस मामले में यदि मेरे या परिवार के ऊपर जरा-सा भी दाग आया, तो मैं आत्महत्या कर लूंगा।
पाकिस्तान के लिए जासूसी के गंभीर मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा पकड़ा गया कैराना का फरहत सपा नेता मुनव्वर सलीम का पीए और उप्र सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का जिलाध्यक्ष है। दिल्ली पुलिस ने यहां कोई संपर्क तो नहीं किया है लेकिन पुलिस व खुफिया एजेंसी उसकी कुंडली खंगाल रही हैं।
ISI जासूसी कांड: सपा नेता मुनव्वर सलीम बोले- जांच में दूंगा पूरा सहयोग pa-of-spmp_29_10_2016

गत गुरुवार को दिल्ली पुलिस द्वारा पाक उच्चायोग के अधिकारी महमूद अख्तर के अलावा दो भारतीय मौलाना रमजान खान उर्फ हजरत व सुभाष पंडित को गिरफ्तार किया गया था। ये रक्षा संबंधी संवेदनशील दस्तावेजों की पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रहे थे। जांच में दिल्ली पुलिस इस नतीजे पर भी पहुंची है कि सपा नेता व राज्यसभा सदस्य मुनव्वर सलीम के पीए व उप्र सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के जिलाध्यक्ष फरहत खान निवासी मोहल्ला अंसारियान थाना कैराना जिला शामली की भी इसमें संलिप्तता है। इस पर उसे दबोच लिया गया। एलआईयू और पुलिस अपने स्तर से फरहत, उसके दोस्तों और संपर्क में रहने वालों के बारे में जानकारी जुटा रही है। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अंबिका प्रसाद भारद्वाज ने बताया कि फरहत के पकड़े जाने के बाद से ही उसके अपराधिक रिकॉर्ड देखे जा रहे हैं। साथ ही कई स्तर पर जानकारी जुटायी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here