Home तकनीकि आम लोगों को दिक्कत नहीं, सिर्फ काला धन वाले डरे हैं: वित्त...

आम लोगों को दिक्कत नहीं, सिर्फ काला धन वाले डरे हैं: वित्त मंत्री

43
0
Listen to this article

नई दिल्ली: 500 और 1000 रुपये के बंद होने के बाद बुधवार को वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने अपनी मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि दरअसल देश में काले धन की समानांतर अर्थव्‍यवस्‍था चल रही थी. उस पर अंकुश लगाने और भ्रष्‍टाचार को रोकने के लिए सरकार ने यह साहसिक कदम उठाया. जेटली ने कहा कि कल यानी गुरुवार सुबह से नई करेंसी आ जाएगी. सरकार के इस कदम से टैक्‍स कलेक्‍शन के आसार बढ़े हैं और कैशलेस अर्थव्‍यवस्‍था की तरफ देश के कदम बढ़ेंगे. उन्होंने यह भी साफ किया कि 2000 रुपये के नए नोट में GPS चिप की बात गलत है. वित्त मंत्री ने कहा कि 500, 1000 रुपये के नोट बंद होने से केंद्र के साथ राज्यों को भी लाभ होगा, साथ ही बैंकों के जमा में भी बढ़ोतरी होगी. आमलोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, उन्हें सिर्फ कुछ दिनों के लिए परेशानी हो सकती है. जेटली ने कहा कि इस फैसले की तुलना वर्ष 1978 में लिए गए निर्णय से नहीं की जा सकती है. उल्लेखनीय है कि 1978 में भी जनता पार्टी की सरकार ने इस तरह की घोषणा की थी. उन्‍होंने कहा कि काले धन पर एसआईटी बनाई गई और सरकार बेनामी संपत्ति पर भी कानून लाई. पीएम ने कुछ समय पहले 500 और 1000 रुपये के नोट हटाने की सोची. उसी के परिणाम के तहत सरकार ने यह कदम उठाया और पीएम ने अपने पहले राष्‍ट्र के नाम संबोधन में इन नोटों को हटाने की घोषणा की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here