Home दुनिया चीन से मुकाबले के लिए 12 घंटे में तैयार हो जाएगा आईबीजी

चीन से मुकाबले के लिए 12 घंटे में तैयार हो जाएगा आईबीजी

161
0
Listen to this article

नई दिल्ली (एजेंसी)। चीनी खतरे से निपटने के लिए एकीकृत युद्धक समूह आईबीजी और थियेटर कमान पर जोर दिया जा रहा है क्योंकि ये दोनों ज्यादा प्रभावी हैं। आईबीजी 12 घंटे से भी कम समय में युद्ध शुरू कर सकते हैं। साथ ही थियेटर कमान बनाकर ऐसी चुनौतियों से निपटने की दिशा में आगे बढ़ा जा रहा है। वर्ष 2013 में जब एके एंटनी रक्षा मंत्री थे तब सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति ने माउंटेन स्ट्राइक कार्प के गठन का फैसला लिया गया था। यह कॉर्प 90 हजार ऐसे जवानों की बननी थी जो ऊंचे पहाड़ी इलाकों में युद्ध करने में दक्ष हों। तब इस पर 65 हजार करोड़ रुपये के खर्च का आंकलन किया गया था। इस दिशा में काम भी हुआ तथा 17वीं माउंटेन कॉर्प बनी। लेकिन बाद में यह आगे नहीं बढ़ सका। जनरल बिपिन रावत जब सेनाध्यक्ष थे तो उन्होंने 2018 में 17 माउंटेन कॉर्प को आईबीजी में विभाजित करने का फैसला किया। तीन युद्धक समूह बने। चीन सीमा पर हिम विजय युद्धाभ्यास भी हुआ। यह माना गया है कि बड़ी फोर्स की बजाए नए युद्धक समूह बनाए जाएं जो तुरंत एक्शन में आ सकें। सेनाओं में यह डिवीजन का स्थान लेंगे। माउंटेन स्ट्राइक कॉर्प की मूल योजना भी उसे वायुसेना से लैस कराने की थी। लेकिन अपेक्षित काम नहीं हुआ। बाद में ‘पड़ोस’ में नई प्रगति हुई तो उसी अनुरूप कार्य करने का फैसला लिया गया। आईबीजी और थियेटर कमान उसी दिशा में उठाया गया कदम है। सेना सूत्रों की मानें तो चीनी चुनौती से मुकाबले के लिए ये युद्धक समूह ज्यादा प्रभावी हैं। साथ ही सेना में थियेटर कमान बनाने की भी तैयारी चल रही है। थियेटर कमान में थल सेना के साथ नभ और जल सेना का भी बैकअप रहता है। चीन पहले ही पांच थियेटर कमान बना चुका है। भारत में कम से कम छह थियेटर कमान बनाने का प्रस्ताव है। इससे सेना की मारक क्षमता बढ़ेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here